MDH का फुल फॉर्म क्या है? Full form of MDH

Mahashian Di Hatti

MDH का फुल फॉर्म Mahashian Di Hatti है। MDH को हिंदी में महाशय दी हट्टी के नाम से जाना जाता है। Mahashian Di Hatti को ही शॉर्ट में MDH के नाम से जाना जाता है। MDH एक मसाले की कंपनी है। इसका व्यापार भारत से ले कर विश्व के कई देशों तक फैला हुआ है। भारतीय बाजार में मसालों के कारोबार में एवरेस्ट मसाले के बाद भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी MDH ही है। भारतीय बाजार में MDH की हिस्सेदारी लगभग 12 प्रतिशत है।

MDH कंपनी की शुरुआत 1919 में पाकिस्तान के सियालकोट में हुई थी। इसकी शुरुआत Mahashay Chunni Lal Gulati ने की थी। तब इसकी शुरुआत बेहद छोटे स्तर पर हुई थी। वह खुद ही मसाले कूट कर बेचा करते थे। भारत – पाकिस्तान के बंटवारे के समय महाशय चुन्नीलाल गुलाटी के बेटे तथा वर्तमान समय में MDH की पहचान बन चुके Mahashay Dharam Pal Gulati सियालकोट से भारत आ गए। वह भारत में दिल्ली के करोलबाग में आए। यहां आ कर वह भी अपने पिता की ही तरह दिल्ली में एक छोटी सी दुकान में मसाले बेचने का काम करने लगे।

1959 में महाशय धर्मपाल गुलाटी ने दिल्ली के ही कृति नगर में एक प्लॉट खरीद कर यहां अपने मसाले की एक फैक्ट्री खोली। यहीं से समय के साथ व्यापार नई ऊंचाइयों को छूने लगा। वर्तमान समय में MDH की 15 बड़ी – बड़ी फैक्ट्रियां देश के अलग – अलग हिस्सों में चल रही है। एवं व्यापार भारत के बाहर भी किया जा रहा है।

वर्तमान समय में MDH के मालिक धर्मपाल गुलाटी 96 वर्ष के हो चुके हैं। इस उम्र में भी वह MDH कंपनी के CEO बने हुए हैं। 2017 के एक आंकड़ो के अनुसार धर्मपाल गुलाटी भारत में बतौर CEO सबसे अधिक वेतन पाते हैं। 2017 में इन्होंने बतौर वेतन, 21 करोड़ रुपए साल के लिए थे। इतना अधिक वेतन लेने वाले धर्मपाल गुलाटी के अनुसार वह अपने कुल वेतन में से लगभग 90 प्रतिशत राशि ट्रस्ट को दान करते हैं।

Leave a Reply