GSM का Full Form क्या होता है। GSM Full Form In Hindi

आजकल मोबाइल के बिना इस दुनिया में रहना थोड़ा मुश्किल लगता है क्योंकि हम सब आज मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं हमें किसी ना किसी रूप में मोबाइल की जरूरत पड़ ही जाती है, जैसे हमें किसी को कॉल करना हो या नेट से कोई चीज पढ़ना या फिर डाउनलोड करनी है या फिर कई ऐसे सोशल मीडिया के apps यूज करने हो जो कि हमें कहीं पर भी बैठे इंसान से जोड़ देते हैं।

gsm ka full form kya hota hai

इंटरनेट और सेल्यूलर नेटवर्क्स में शुरू से ही तब्दीली होती आई है जिसको हम विकास भी कह सकते हैं। कई काम अब इतने आसान हो चुके हैं कि हम उन्हें सीधा मोबाइल फोन के द्वारा घर में बैठे हुए भी कर सकते हैं जैसे कि नेट बैंकिंग, बिल का भुगतान करना, रेलवे या फिर हवाई टिकट बुक करवाना और कई ऐसी अन्य चीजें जिन्हें करने के लिए हमें काफी वक्त लगता है जब हम वह चीजें जाकर उनके ऑफिस में करते हैं जहां पर हमें लंबी-लंबी कतारों का सामना करना पड़ता है।

आजकल हर कोई अपना टाइम बचाना चाहता है और मोबाइल फोन आपको वह सुविधा देता है जिससे आप अपना कीमती वक्त बचा सकते हैं। मोबाइल फोन और कई ऐसी सुविधा प्रदान करता है जिनसे हमारी रोजमर्रा की जिंदगी को काफी आसान बनाया जा सकता है। तो चलिए बढ़ते हैं इस आर्टिकल के टॉपिक की ओर।

आपने कहीं ना कहीं किसी ना किसी को GSM ka full form के बारे में बात करते जरूर सुना होगा या फिर अगर आपने कीपैड या फिर टच स्क्रीन फोंस SECOND generation sim के साथ यूज किए हैं तो आपके मन में यह प्रश्न तो जरूर होगा की GSM क्या होता है और आप तो यह नहीं चाहेंगे कि जब आपसे कोई यह सवाल पूछे तो आपको यह पता ना हो कि GSM ka full form क्या है या किसने GSM को बनाया और कब यह पूरी दुनिया में लागू हुआ तो घबराइए नहीं हम आपको यह सारी जानकारी इस आर्टिकल में स्पष्ट रूप से देंगे। तो चलिए बिना आपका वक्त ज़्याया करते हुए बढ़ते हैं इस आर्टिकल की ओर।

GSM का फुल फॉर्म क्या है?

GSM ka full form यहां Global Systems for Mobile Communications, जो की पहली बार European Telecommunications standards Institute द्वारा 1991 में Finland में डेवलप हुआ था। जिसका इस्तेमाल पूरी दुनिया में कई लोगों द्वारा किया गया। 1G को रिप्लेस करने के साथ-साथ 2G ने अपने साथ डाटा सर्विस को भी ऐड किया। 2G की सरवीस 1G से ज्यादा बेहतर है और तेज है जिसके कारण लोगों ने 2G GSM पर तुरंत स्विच किया।

GSM का बेसिक इनपुट और आउटपुट दूसरी telecommunication technologies से अलग है। आज लोग 3G और 4G इस्तेमाल कर रहे हैं हम जानते हैं कि एक टाइम ऐसा भी था जिस वक्त हमने 2G का उपयोग भी किया है जो की 1G के मुकाबले कई ज्यादा बेहतर experience देता है। आज 3G और 4G का रास्ता 2G से ही होकर गुजरता है।

3G और 4G के बारे में समझने से पहले बेहतर रहेगा कि पहले हम GSM ka full form अच्छे से जान ले। हर communication technology के काम करने का तरीका अलग होता है उसी तरह GSM के काम करने का तरीका भी अलग है। हम एक दूसरे से Radio frequencies के द्वारा बात करते हैं पहली बार मोबाइल में बात करने का जो technology सिस्टम आया था उसे नाम दिया गया First Generation जिसे हम सब 1G कहते हैं।

वॉइस कॉल, वीडियो और इंटरनेट सेवाओं के साथ-साथ यह internet generation आगे बढ़ रही है। जैसे-जैसे स्मार्टफोंस में तब्दीली आ रही है वैसे-वैसे इंटरनेट की सेवाएं और बेहतर बनती जा रही है। आजकल HYBRD स्मार्टफोंस का जमाना आ गया है जिसमें आप  या तो दो SIM डाल सकते हैं या फिर एक SIM और एक MicroSD card डाल सकते हैं।

GSM क्या है?

GSM ka full form एक Cellular network है जिसकी मदद से  एक cell phone एक लिमिटेड area में बाकी cell phones से कनेक्ट होता है। GSM नेटवर्क में 5 तरह के Cell Size होते हैं जैसे कि MACRO, MICRO, PICO, FEMTO और UMBRELLA CELLS. GSM कई तरह की अलग-अलग frequencies में ऑपरेट करता है जो कि दो भागों में बंटी हुई है, GSM frequency ranges 2G के लिए और UMTS brands 3G के लिए।

GSM कई तरह के codecs इस्तेमाल करता है जो वॉइस को 3.1 khz से 7 और 13 kbit/s में squeeze कर देता है। क्या आपके मन मैं यह सवाल कभी आया कि SIM क्या होता है? SIM का मतलब Subscriber Identity Module होता है जो कि एक key feature है GSM का। SIM के अंदर यूसर की लगभग सारी जानकारी होती है जो कि वह आसानी से पा सकते हैं जब भी वह अपना मोबाइल फोन या फिर SIM चेंज करते हैं।

जैसा कि आप जानते हैं GSM ka full form, Global Systems for Mobile Communications है, और उसके बाद भी technology GSM तक नहीं टिकी है, GSM का base अपनाकर 2001 में 3G लाया गया और उसके बाद 2013 में 4G का प्रवेश हुआ। इन technologies के साथ-साथ LTE और VoLTE का आविष्कार हुआ। धीरे-धीरे आगे बढ़ता हुआ Internet World आज बुलंदियां छू रहा है और अभी भी इंजीनियर इसी मुहिम में लगे हुए हैं की इंटरनेट को और बेहतर कैसे बनाया जाए।

आज दुनिया कई तरह के आविष्कारों को करने में जुटी हुई है, और बेशक लोग सफल भी हो रहे हैं, 2G से 3G, 3G से 4G तकनीक इतनी आगे बढ़ गई है कि कई ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में हमें पता तक नहीं है पर हम उन्हें अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में इस्तेमाल करते हैं जैसे कि LTE, VoLTE और कई ऐसी चीजें जिनके बारे में हम नहीं जानते।

GSM की महत्वता

Technology की इस दुनिया में आविष्कार को अलग स्थान दिया गया है उसी तरह से GSM  भी एक अलग स्थान और महत्व रखता है। GSM इस पूरी दुनिया में एक अलग स्थान रखता है क्योंकि 1G के बाद आने वाला GSM ही था। GSM की मदद से वॉइस कॉलिंग को बेहतर बनाया गया। GSM की मदद से आप बात कर सकते हैं बिना किसी SECURITY issue के।

GSM एक जरिया था इंटरनेट की दुनिया में EVOLUTION (प्रगति) का। किसी भी दायरे में कनेक्ट होने में GSM बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि GSM को बनाया ही ऐसा गया है की वह अपने आसपास के सभी नेटवर्क को आईडेंटिफाई करता है और AVAILABLE नेटवर्क से जोड़ता है।

एक शुरुआत के तौर पर GSM ने अपना योगदान पूर्ण रूप से दिया जिसकी वजह से आज हम 3G और 4G का इस्तेमाल कर पा रहे हैं।

GSM के बारे में कुछ अधिक जानकारी

GSM यह दावा करता है कि वह आपके सिक्योरिटी का पूरा ध्यान रखता है। UMTS के developer ने एक ऑप्शनल UNIVERSAL SUBSCRIBER IDENTITY MODULE दुनिया के सामने introduce किया जो की ज्यादा Security प्रदान करता है। आशा करता हूं कि आप सब को अब GSM ka full form पूर्ण रूप से समझ आ गया होगा। लेकिन अगर आपके मन में अब भी कोई सवाल है GSM ka full form को लेकर तो कृपया में नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं, और अगर आप चाहते हैं कि इस आर्टिकल को और भी बेहतर बनाया जा सकता है तो कृपया हमें जरूर बताएं हमें आपके सुझाव और सवालों का इंतजार आता है ताकि हम उन्हें देख कर सुधार कर सकें।

Leave a Reply